अमित शाह सहारा स्कैंडल में शामिल- तृणमूल कांग्रेस

राष्ट्रीय
Typography

कोलकाता में कल बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने रैली के जरिए ममता बनर्जी पर हमला बोला था, आज संसद की कार्यवाही शुरू होने से पहले तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के सांसदों ने पलटवार किया। टीएमसी के सांसद कार्यवाही शुरू होने से पहले संसद परिसर में लाल डायरी, जिस पर सहारा लिखा था, हाथ में लेकर प्रदर्शन और नारेबाजी करते दिखे। इन सांसदों का आरोप है कि हाल में सहारा समूह के यहां हाल में पड़ी रेड में एक लाल डायरी मिली थी, जिसमें कथित तौर पर अमित शाह का भी नाम है। टीएमसी ने मांग की कि अमित शाह के खिलाफ जांच हो और वित्त मंत्री व गृह मंत्री इस मामले में संसद के भीतर बयान दें। अमित शाह ने विक्टोरिया हाउस के पास हुई रैली में शारदा चिटफंड घोटाले का मुद्दा उठाया था और काले धन के मुद्दे पर संसद में तृणमूल कांग्रेस के जबरदस्त हमलों पर निशाना साधते हुए शाह ने कहा आखिर क्यों बनर्जी सारदा घोटाले में शामिल लोगों को बचा रही हैं। उन्होंने कहा, 'मैं दीदी से पूछना चाहता हूं कि शारदा चिटफंड में जो पैसा लगा है वह ब्लैक मनी है या वाइट मनी? मैं पूछना चाहता हूं कि वह आखिर शारदा घोटाले में शामिल लोगों को क्यों बचा रही हैं?' शारदा चिटफंड घोटाले में टीएम के दो सांसद गिरफ्तार हो चुके हैं और कुछ से पूछताछ हो चुकी है। माना जा रहा है कि तृणमूल कांग्रेस सांसदों ने इसके जवाब में 'सहारा डायरी' का मुद्दा उछाला है। पार्टी के सांसद सुदीप बंदोपाध्याय ने दावा किया सहारा के दफ्तर पर सीबीआई के छापे में लाल डायरी बरामद हुई थी। उन्होंने कहा कि हमने इस मुद्दे पर कार्यस्थगन प्रस्ताव का नोटिस दिया है और इस पर तुरंत चर्चा चाहते हैं। टीएमसी नेता ने यह भी मांग की कि सीबीआई को अमित शाह के नाम का खुलासा भी करना चाहिए। हाल के दिनों में बीजेपी और टीएमसी में संसद के बाहर और भीतर तल्खी बढ़ी है। तृणमूल कांग्रेस के दबदबे वाली केएमसी और राज्य सरकार की तरफ से विक्टोरिया हाउस के पास शाह की रैली को मंजूरी नहीं दिए जाने के बाद बीजेपी इस मामले को लेकर कलकत्ता हाई कोर्ट पहुंच गई थी। हाई कोर्ट ने ममता बनर्जी सरकार के 'जिद्दी' रुख की आलोचना करते हुए शाह की रैली को मंजूरी दे दी। 1993 के बाद से विक्टोरिया हाउस के पास यह बीजेपी की पहली रैली है। इस रैली में बंगाल के मतदाताओं से बदलाव की अपील करते हुए अमित शाह ने कोलकाता से पार्टी के चुनावी अभियान का आगाज कर दिया। पश्चिम बंगाल में अगले साल कोलकाता नगर निगम के चुनाव होने हैं, जबकि 2016 में राज्य में विधानसभा चुनाव होने हैं। शाह ने तृणमूल कांग्रेस और मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर 'वोट बैंक की राजनीति' करने को लेकर निशाना साधा। उन्होंने कहा, 'मैं दीदी से अपील करना चाहता हूं कि अगर वह वोट बैंक की राजनीति करना चाहती हैं तो ऐसा कर सकती हैं लेकिन इसके लिए उन्हें देश की सुरक्षा को खतरे में डालने की जरूरत नहीं है। केवल वोट बैंक की राजनीति के लिए बांग्लादेशी घुसपैठियों को आसरा मत दीजिए।' शाह ने कहा, 'मोदी जी का विजन कांग्रेस मुक्त भारत का था और उन्होंने इसे पूरा कर दिखाया। अब हम तृणमूल मुक्त बंगाल चाहते हैं।' शाह ने कहा, 'हाल की बैठक में ममता जी ने मेरे बारे में पूछा और वह जानना चाहती थी कि अमित शाह कौन है? मैं उन्हें बताना चाहता हूं कि मैं अमित शाह हूं, बीजेपी का अदना-सा कार्यकर्ता और मैं आपकी पार्टी को पश्चिम बंगाल से उखाड़ फेंकने आया हूं।'